कभी पढ़ाई पूरी करने के लिए करनी पड़ी थी मजदूरी, आज हैं देश के एक प्रतिष्ठित IAS ऑफिसर

0
2219
vinod-kumar-suman

यह सच है कि अगर इंसान किसी चीज़ को दिल से चाहे तो दुनिया की कोई भी ताकत उसे उस चीज़ को हासिल करने में नाकामयाब नहीं कर सकती। आज की कहानी ऐसे ही एक बुलंद हौसले और मजबूत इरादों से संपन्न शख्स को समर्पित है। इस शख्स की जिंदगी में बचपन से ही गरीबी और अभावों ने दस्तक दे चुके थे। लेकिन फिर भी इन्होनें हार नहीं मानी और कामयाबी की अनोखी लिखी। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस शख्स को अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए मजदूरी तक करनी पड़ी थी। आज यह हमारे बीच एक प्रतिष्ठित प्रशासनिक ऑफिसर के रूप में उपस्थित हैं।

जी हाँ, आज हम बात कर रहें हैं अल्मोड़ा के जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन की सफलता के बारे में जो युवाओं के लिए बेहद प्रेरणादायक है। उत्तर प्रदेश के भदोही के पास जखांऊ गांव में एक बेहद ही गरीब किसान परिवार में पैदा लिए सुमन की जिंदगी किसी संघर्ष से कम नहीं रही। घर में आय का एकमात्र स्रोत खेती ही था। जमीन भी ज्यादा बड़ी नहीं थी कि अनाज बेचकर भी अच्छे से घर का गुजारा हो सकता था। पुरे परिवार को कम-से-कम दो जून की रोटी की खातिर सुमन के पिता खेती के साथ-साथ कालीन बुनने का भी काम करते थे।

vinod

गांव से ही प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद सुमन पिता का हाथ बंटाना आरंभ कर दिए। सुमन बतातें हैं कि “पांच भाई और दो बहनों में मैं सबसे बड़ा था। जाहिर है परिवार की जिम्मेदारी में पिता का हाथ बंटाना मेरा फर्ज भी था।” लेकिन सुमन किसी भी हाल में अपनी पढ़ाई भी नहीं छोड़ना चाहतें थे। किसी तरह उन्होंने इंटर पास किया पर आगे की पढ़ाई के लिए आर्थिक समस्या खड़ी हो गई।

अपने ही दम पर मंजिल पाने के जुनून में सुमन ने अपने माता-पिता को छोड़कर घर से शहर की ओर चल पड़े। उनके पास सिर्फ शरीर के कपड़ों के अलावा कुछ नहीं था। आर्थिक हालातों से टूट चुके सुमन ने इतनी दूर निकलने का मन बना लिया जहां उन्हें कोई पहचान ही न सके। उन्होंने श्रीनगर गढ़वाल जाने का निश्चय किया। वहां पहुँचते-पहुँचते उनके पास एक फूटी कौड़ी तक नहीं बची। अंत में उन्होंने वहां एक मंदिर में पहुंचे और पुजारी से शरण मांगी।

अगले दिन वह काम की तलाश में निकले। उन दिनों श्रीनगर में एक सुलभ शौचालय का निर्माण चल रहा था। ठेकेदार से मिन्नत के बाद वह वहां मजूदरी करने लगे। मजदूरी के तौर पर उन्हें 25 रुपये रोज मिलते थे।

संघर्ष के दिनों को याद करते हुए सुमन बतातें हैं कि “करीब एक माह तक वे एक चादर और बोरे के सहारे मंदिर के बरामदे में रातें बिताई। इस दौरान मजदूरी से मिले पैसों से कुछ भी खा लेते थे।”

कुछ महीनों तक ऐसा चलने के बाद उन्होंने उसी शहर के विश्वविद्यालय में दाखिला लेने का निश्चय किया। उन्होंने श्रीनगर गढ़वाल विवि में बीए प्रथम वर्ष में प्रवेश ले लिया और गणित, सांख्यिकी और इतिहास विषय लिए।

सुमन की गणित अच्छी थी। इसलिए उन्होंने रात में ट्यूशन पढ़ाने का निश्चय किया। पूरे दिन मजदूरी करते और रात को ट्यूशन पढ़ाते। धीरे-धीरे उनकी आर्थिक हालात कुछ ठीक हुए तो उन्होंने घर पर पैसे भेजने शुरू कर दिए। वर्ष 1992 में प्रथम श्रेणी में बीए करने के बाद सुमन ने पिता की सलाह पर इलाहाबाद लौटने का निश्चय किया और यहां इलाहाबाद विश्वविद्यालय से प्राचीन इतिहास में एमए किया।

इसके बाद 1995 में उन्होंने लोक प्रशासन में डिप्लोमा किया और प्रशासनिक सेवा परीक्षा की तैयारी में जुट गये। इसी बीच उन्हें महालेखाकार ऑफिस में लेखाकार की सर्विस लग गई। सर्विस होने के बाद भी उन्होंने तैयारी जारी रखा और 1997 में उनका पीसीएस में चयन हुआ और इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

ias-vinod-kumar-suman

तमाम महत्वपूर्ण पदों पर सेवा देने के बाद 2008 में उन्हें आइएएस कैडर मिल गया। वह देहरादून में एडीएम और सिटी मजिस्ट्रेट के अलावा कई जिलों में एडीएम गन्ना आयुक्त, निदेशक समाज कल्याण सहित कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं। पिछले करीब एक साल से अल्मोड़ा के जिलाधिकारी के पद पर हैं।

सुमन का मानना है कि अगर दृढ़ निश्चय हो तो कोई भी कठिनाई इंसान को नहीं डिगा सकती। अपने लक्ष्य को लेकर सुमन दृढ़-संकल्प होकर डटे रहे और अंत में सफलता का स्वाद चखे। इनकी सफलता से हमें यही प्रेरणा मिलती है कि जिंदगी की राह में हमें अनगिनत बाधाओं का सामना करना पड़ेगा, हमें उसका डटकर मुकाबला करने की जरुरत है न कि हार मान लेने का।

कहानी कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें और इसे शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here